Friday, December 17, 2010

क्या धर्म है

जब रात काली हो अमावास की
और रास्ता खोने लगे
तब निराशाओं को चीर कर
आशाओं का एक दीपक जलाना धर्म है !
                          जब  मीलों  लम्बा  हो  रास्ता
                          और मंजिल भी तुमको ना दिखे
                          मंजिल की चाह में  हर सांस पे
                          तब एक कदम  बढ़ना धर्म है
जब पत्थरों से राह के पैर तेरे छिल चुके हों
और राह मुस्किल सी लगे किसी चाह की
तब जिस चाह का हस्ती मिटाना नाम हो
उस चाह पर कूद को मिटाना धर्म है!
                        जिस वक्त जीना गैर मुमकिन सा लगे
                        उया वक्त जीना फर्ज है इंसान का
                        लाजिम लहर के साथ है तब कलना
                        जब हो समंदर पे नशा तूफ़ान का !
जब  तूफान  राहों  में  हो  खड़ा
और रास्ता तेरा बदलने भी लगे
उस   वक्त लड़कर  तूफ़ान   से
रूख़ उसका बदलना धर्म है !
                       जब दीपक जलाना चाह हो
                       और हवा  ही साथ तेरा ना दे तब
                     जिस हवा  का दीपक बुझाना काम हो
                      उस हवा में दीपक जलाना धर्म  है !              
          

1 comment:

  1. written for the humans who sometimes get discouraged by some ups and downs of life
    .one thing i would like to mention here that
    last two lines and four lines of third paragraph are taken from a poem of poet "Gopal Das Neeraj".

    ReplyDelete