Wednesday, November 14, 2012

तुमसे से मिलने की आस है बाकी

 तुमसे से  मिलने की आस है बाकी ,
वरना तो हम इस  ज़िन्दगी से डरते हैं ;
तुम ही क्यों  समझ नहीं पाई ,
की हम तो बस तुम ही पे मरते हैं

कल रात थी दिवाली की सो ,
मुबारक हो तुमको वो दीपक औ बाती ;
वो बिजली-जुगनू और चाँद -सितारे ,
हम तो अब रौशनी से डरते हैं ,

साँस कुछ और बाकी  है मेरे खाते में  ,
वरना अब तो बस कुछ यादें हैं, जो की आती-जाती हैं ;
 तुमसे से  मिलने की आस है बाकी ,
वरना तो हम ज़िन्दगी से डरते हैं ;


Tumne manayi hogi diwali shayad ,
Hame to roshni se dar lagta hai ;
Bheed se bhaga firta hoon ab to ,
Veerano  me apna ghar lagta hai !
                      
Subah ki dhoop me bhi ab  ,
Dopahar ka asar lagta hai ;
khuda jane kahan jaoon ab to ,
Apna ghar bhee ,paraya sehar lagta hai !

Tum na aaogi kabhi ye ,
Soch kar bhee dar lagta hai ;
Teri yaden hi hai shayad jo ki ,
Mujhko chandani me , ek meetha asar lagta hai !

Tumne manayi hogi diwali shayad ,
Hame to roshni se dar lagta hai ;

Wednesday, September 5, 2012

मैं आज शायद कमज़ोर पड़ने लगा हूँ

तेरा बस नशा है ,    तेरी ही खुमारी ,
 खो गए मेरे  दिन हैं और हुईं रातें खाली ,
मैं थक भी गया हूँ  अब रोंने चला  हूँ '
दीवारें ना देखें की कमज़ोर, मैं हो गया हूँ ;

इस डर से अब ख़ुद में ही , मैं घुलने लगा हूँ ,
ग़र मैं कभी टूट जाऊं तभी तुम भी आना ;
तुम्हे बस कुछ मालाएँ मिलेंगीं ,
मैं आंसुओं से  मोती पिरोने लगा हूँ ;

दीवारें ना देखें  की कमज़ोर मैं हो गया हूँ...
धुआं भी है छाया और पड़ा  ज़ाम खाली;
 खुद अपना साक़ी   ,मैं बनने चला हूँ ,
 मैंअब तो सोते हुए, तेरा नाम लेने लगा हूँ ;

दीवारें न सुन लें कि अब कौन मेरा
 बिस्मिल बनने लगा है सो अब मैं भी छुप के ;
मोतियों पर,  तेरा नाम लिखने लगा हूँ,
शायद  मैं अबतक कमज़ोर पड़ने लगा हूँ ।

 ग़र मैं कभी टूट जाऊं तभी तुम भी आना ,
तुझे तेरा नाम फिर भी संवारा मिलेगा ;
बात ये दीगर है की कोई दीवाना तेरा तुझको ,
वहाँ बिखरा  मिलेगा ;
  तुम गम ना करना तुम हो आज सुन्दर
और भी तुमको कई लोग,मिलेंगे
मगर जब ना हो कोई पास तेरे ,
तु बस एक बार मेरा नाम लेना ,
एक बिखरा हुआ बुत तुझे तेरे पीछे
सवंरता  मिलेगा  ,नींद से उठते ही कोई ,
तुझको तेरा नाम लेता मिलेगा ;;;;;;;;;;




Sunday, September 2, 2012

तश्वीर

हांथों   की  लकीरों  को  मोड़  के,  तेरी   तश्वीर   बना   लूँ ,
मिळ जाए ग़र ख़ुदा तो आज तुझे मै अपनी तकदीर बना लूँ !

Friday, August 26, 2011

जीवन की भंगुरता

जीवन क्या है ?
एक सुन्दर सपना ;
और  मानव जीवन 
 ईश्वर  की सुन्दरतम रचना !
                             किन्तु सपनो की  सुन्दरता 
                              में मत खोना ; 
                              चाहे ये कितने प्यारे हो  
                               वो  फिर भी भंगुर होते हों !
पल जो हम जी  लेते हैं 
  वो लौट कहाँ फिर पाते हैं
  भूली- बिसरी यादों में ही
  वो बस  रह   जाते हैं
                              तो क्यों हम,
                               इस भंगुरता  का जश्न   मनाते हैं ?                
                              अपने खोये बसंत पर नाचते  गाते हैं ? 
                              
                           
 

Friday, August 12, 2011

दुहरे लोग

    लोग अब बड़े दुहरे क्यों हैं ?
   इनके  चेहरों पे इतने चहरे क्यों हैं? 
    दिलों पे अब हमारे इतने पहरे क्यों हैं?
    समझना मुस्किल होता है ;
                  हे !प्रभु !
   ये माटी के पुतले इतने गहरे क्यों हैं?     


;                                               एक प्याली चाय भी अब;लोगों की 
                                                 महँगी पड़ती है;
        जाने क्यों लगता है  ?
 अब लोगों  के  मुख में   राम 
  और बगल में छुरी बस्ती है?
                                                       
                                                

Friday, December 31, 2010

life 2 (pursuit of happiness 2)

Opportunities are not always
As bright as you think
Sometimes it seems that
Our life is going to shrink
But have patience ! one day
Your life will again be rosy pink
Thorns were a always a part of it (rose)
So you need not to worry
You need not to think .
 
Life is not always full of light
Sometimes it seems that
Nothing in our life is alright
But in this dark period life is defined as
The struggle and fight to get some light
And keeping the hope that
Everything will soon be alright


Someone has said that
"strength is life and weakness is death "
But the real thing is that
Happiness is life and grief is death
And secret of happiness is always
Having your faith in yourself .

Life is not all about earning money
But it is all about earning happiness and harmony
Because after having money ;you will
Still be running for happiness
But after getting the path of happiness
You need not to run for money.

                                      " so try to get the way to happiness and harmony
                                             after that you won't need more money"