Friday, August 26, 2011

जीवन की भंगुरता

जीवन क्या है ?
एक सुन्दर सपना ;
और  मानव जीवन 
 ईश्वर  की सुन्दरतम रचना !
                             किन्तु सपनो की  सुन्दरता 
                              में मत खोना ; 
                              चाहे ये कितने प्यारे हो  
                               वो  फिर भी भंगुर होते हों !
पल जो हम जी  लेते हैं 
  वो लौट कहाँ फिर पाते हैं
  भूली- बिसरी यादों में ही
  वो बस  रह   जाते हैं
                              तो क्यों हम,
                               इस भंगुरता  का जश्न   मनाते हैं ?                
                              अपने खोये बसंत पर नाचते  गाते हैं ? 
                              
                           
 

Friday, August 12, 2011

दुहरे लोग

    लोग अब बड़े दुहरे क्यों हैं ?
   इनके  चेहरों पे इतने चहरे क्यों हैं? 
    दिलों पे अब हमारे इतने पहरे क्यों हैं?
    समझना मुस्किल होता है ;
                  हे !प्रभु !
   ये माटी के पुतले इतने गहरे क्यों हैं?     


;                                               एक प्याली चाय भी अब;लोगों की 
                                                 महँगी पड़ती है;
        जाने क्यों लगता है  ?
 अब लोगों  के  मुख में   राम 
  और बगल में छुरी बस्ती है?